वंश बेल में दंश : उपन्यास – रवीन्द्र कान्त त्यागी

85.00

वंश बेल में दंश : उपन्यास – लेखक रवीन्द्र कान्त त्यागी

Description

वंश बेल में दंश

उपन्यास – लेखक रवीन्द्र कान्त त्यागी

“यह उपन्यास कई मायनों में खास है. पाठक इसे एक बार पढ़ना शुरू करेगा तो, अंत तक पहुंचने की त्वरा में पढ़ता ही जाएगा. इसकी खूबी केवल यह नहीं है कि इसमें ग्रामीण और कस्बाई जीवन की प्रामाणिक झलक है, जिसका समकालीन हिंदी साहित्य में अभाव नजर आता है. उपन्यास की विशेषता इसके मुख्यपात्र की मनोरचना है, जो घर-परिवार और समाज को लेकर, औसत सामंती मानसिकता का प्रतिनिधित्व करती है. पूरा उपन्यास किस्सागोई शैली में लिखा गया है. लगता है कि गांव में चौपाल में बैठा कोई किस्सागो आंखन-देखी बयान कर रहा हो. हम उपन्यासकार रवीन्द्र कान्त त्यागी के आभारी हैं, जिन्होंने हमें इस अनूठी कृति को पाठकों तक पहुंचाने का अवसर उपलब्ध कराया है.”

Additional information

Authors

रवीन्द्र कान्त त्यागी, Ravindra Kant Tyagi

Format

Digital

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “वंश बेल में दंश : उपन्यास – रवीन्द्र कान्त त्यागी”

Your email address will not be published.

You may also like…